Vaagmi
Advertisement
राजनीति
janmashtami celebreted on 15 august

ब्रज के सभी मंदिरों में मंगलवार को मनायी जायेगी जन्माष्टमी

मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान मंदिर सहित ब्रज के सभी प्रमुख मंदिरों में जन्माष्टमी का पर्व मंगलवार को मनाया जायेगा और इसके लिए जिला प्रशासन एवं मंदिरों के संचालकों ने लगभग सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली हैं।

भागवत पुराण के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म ईसा पूर्व 3226वीं सदी में भाद्रपद मास की अष्टमी की मध्य रात्रि में मथुरा के राजा कंस के कारागार में बंद वासुदेव की पत्नी देवकी के गर्भ से हुआ था।

जन्माष्टमी के अवसर पर ब्रज में अष्टमी के दिन हर घर में मध्य रात्रि को ठाकुरजी का जन्म होने तक व्रत रखा जाता है और श्रद्वालु मध्य रात्रि के बाद व्रत खोलते है।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने बताया, ‘‘श्रीकृष्ण जन्मस्थान सहित मथुरा-वृन्दावन के सभी प्रमुख मंदिरों में उदयात तिथि (जिस तिथि में सूर्य का उदय होता हो) में पूजन की परंपरा के अनुसार जन्माष्टमी का पर्व 15 अगस्त को मनाया जाएगा। मध्य रात्रि में भगवान के जन्म-महाभिषेक के पश्चात प्रातः सभी मंदिरों में नन्दोत्सव का पर्व मनाया जाएगा।’’ उन्होंने बताया, ‘‘भगवान के जन्म का मुख्य कार्यक्रम श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर में स्थित भागवत भवन में मंगलवार रात्रि 11.00 बजे श्रीगणेश एवं नवग्रह पूजन शुरू होगा और मध्य रात्रि भगवान के प्राकट्य के साथ मध्य रात्रि के बाद 1.30 बजे तक चलेगा।’’ उन्होंने बताया, ‘‘मंदिर में ठाकुरजी के जन्म महाभिषेक कर बाहर निकलने वाले श्रद्धालुओं को भोग प्रसाद वितरित किया जाएगा। इसके लिए प्रयास किया जा रहा है कि कोई भी श्रद्धालु मंदिर से वापसी में भोग पाए बिना वापस न जाए।’’ यमुना किनारे स्थित वल्लभकुल संप्रदाय के सर्वाधिक मान्यता वाले ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर के मीडिया प्रभारी एडवोकेट राकेश तिवारी ने बताया, ‘‘जन्माष्टमी के अवसर पर मंदिर में ठाकुरजी के जन्म के दर्शन 11.45 बजे से प्रारंभ होकर 12.15 बजे महाआरती सम्पन्न होने तक किये जा सकेंगे।’’ इसी प्रकार वृन्दावन के ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर के प्रबंधक मुनीष शर्मा के अनुसार, ‘‘श्रद्धालु मंगलवार को प्रातः 7.45 बजे से दोपहर 12 बजे तक तथा सायंकाल 5.30 बजे से 9.30 बजे तक प्रभु के दर्शन अन्य दिनों की भांति कर सकते है। जबकि जन्म के दर्शन करने के लिए रात्रि 12 बजे महाभिषेक के पश्चात 1.45 बजे तक इंतजार करना होगा। दो बजे मंगला आरती के पश्चात श्रद्धालु सुबह 5.30 बजे तक दर्शन कर सकेंगे। नन्दोत्सव दर्शन परंपरानुसार 7.45 बजे से 12 बजे तक किए जा सकेंगे।’’ मथुरा-वृन्दावन आकाशवाणी के सहायक निदेशक (कार्यक्रम) डा.अरविन्द त्रिपाठी ने बताया ,‘‘आकाशवाणी विगत वर्षों की भांति ही इस वर्ष भी श्रीकृष्ण जन्मस्थान के भागवत भवन एवं यमुना किनारे राधाधिराज बाजार स्थित ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर में संपन्न होने वाले ठाकुरजी के जन्म-महाभिषेक’ कार्यक्रम का बारी-बारी से सजीव प्रसारण करेगा जिसे आकाशवाणी दिल्ली सहित सभी केंद्रों से प्रसारित किया जाएगा।’’ उन्होंने बताया, ‘‘आकाशवाणी के पूर्व कार्यकारी निदेशक यतीन्द्र चतुर्वेदी तथा आशुतोष सुन्दरम भागवत भवन से तथा उद्घोषक राधाबिहारी गोस्वामी एवं श्रीकृष्ण शरद ठाकुर द्वारिकाधीश से कृष्णजन्म का आंखों-देखा हाल सुनाएंगे।’’