Vaagmi
Advertisement
राष्ट्रीय
rail kiraya labour ne chukaya

मज़दूरों ने की खुद किराया चुकाने की बात

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में यात्रा करने वाले मज़दूरों को अपनी जेब से टिकट के पैसे का भुगतान करना पड़ा है.

अपने घर लौटने वाले मज़दूरों ने यह बात बताई है कि इनसे किराये की पूरी रक़म वसूली गई थी.अलबत्ता केरल के तिरुवनंतपुरम से झारखंड के जसीडीह पहुँची विशेष ट्रेन के इन यात्री मज़दूरों को उनके घरों तक पहुँचाने के लिए झारखंड सरकार ने बसों का इंतज़ाम किया था.

केरल से चली ऐसी दो ट्रेनें सोमवार दोपहर झारखंड पहुँची. इन ट्रेनों में सफर करने वाले मज़दूरों का कहना है कि उन्होंने अपना किराया खुद भरा.
ऐसी ही एक ट्रेन सोमवार की रात कर्नाटक के बंगलुरु से झारखंड के हटिया आई.

तिरुवनंतपुरम से जसीडीह आए मज़दूर संजीव कुमार सिंह झारखंड के साहिबगंज जिले के राजमहल इलाके के मूल निवासी हैं.
उन्हें टिकट के बदले ८७५ रुपये का भुगतान करना पड़ा. एक और यात्री मिताई घोष ने  बताया कि स्टेशन पहुँचने के बाद रेलवे के अधिकारियों ने उनसे ८७५ रुपये लेकर टिकट दिया. उनका गाँव साहिबगंज जिले के उधव में है.

अधिकारियों ने पत्रकारों को मज़दूरों से बात करने से मना कर दिया और कोशिश की गई कि कोई मज़दूर रेल किराया के संबंध में पत्रकारों से बात नहीं कर सके.