Vaagmi
Advertisement
राजनीति
siddhu amrindar war

पंजाब में अमरिंदर और सिद्धू की कलह

आंतरिक गुटबाजी से जूझ रहे कांग्रेस पार्टी अब आगामी पांच राज्यों में होने वाले चुनाव के लिए समस्या सुलझाने में लग गई है इसी रणनीति के तहत पंजाब में कैप्टन अमरिंदर और सिद्धू के बीच चल रही कलह को रोकने के लिए प्रयास जारी हैं lइसी के दौरान रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी से मुलाकात की माना जा रहा है 2 या 3 दिन में पंजाब का मसला सुलझा लिया जाएगा इसी दौरान नवजोत सिंह सिद्धू है आम आदमी पार्टी का जिक्र कर उनके लिए भी एक रास्ता खोल दिया है
पंजाब के प्रभारी हरीश रावत ने राहुल गांधी से मुलाकात के बाद आज कहां पंजाब के मामले में 2 या 3 दिन में कुछ अच्छी खबर सुनने को मिलेगी कांग्रेस की अंतर कलह  के चलते नवजोत सिंह ने 2017 मैं अपने उठाए हुए पंजाब के बिजली ड्रग जैसे मुद्दों का जिक्र किया और कहा कि आम आदमी पार्टी ने हमेशा मेरे कार्यों की मेरे मुद्दों की सराहना की है मैंने पंजाब के लिए क्या लड़ाई लड़ी है और क्या मुद्दे उठाए हैं यह आम आदमी पार्टी ने समझा है परंतु इस समय कांग्रेस में रहते समय किसी दूसरे दल का जिक्र करना शायद अपनी पार्टी पर दबाव डालने के लिए है
पिछले कई समय से कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच पदों को लेकर खींचतान जारी है नवजोत सिंह पार्टी में कोई अहम पद चाहते हैं लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह वहां पर अपनी टीम के साथ काम करना चाहते हैं सिद्धू जहां कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर निगाह रखते हैं परंतु कैप्टन उसे पूरा नहीं होने देना चाहते जिसके चलते दोनों नेता सोनिया सोनिया गांधी राहुल एवं प्रियंका से लगातार मिलते रहे हैं परंतु अब लगता है कि शायद समस्या का समाधान निकल आए पार्टी भी अपने गिरते हुए जनाधार से चिंतित है और अब वह किसी तरीके का हालात नहीं बनाना चाहती। उत्तराखंड उत्तर प्रदेश गोवा तथा अन्य 2 राज्यों में चुनाव के मध्य नजर कांग्रेस पार्टी अब अपने आप को मजबूत दिखाना चाहती है हालांकि अंदरूनी कलह बार-बार उठ कर बाहर आ जाती है