Vaagmi
Advertisement
पर्यटन
Zoo in 450 acres area near Kharwai

खरवई के पास 450 एकड़ क्षेत्र में चिड़ियाघर


रायसेन. रायसेन जिला मुख्यालय से 20 किमी दूर खरवई के पास 450 एकड़ क्षेत्र में चिड़ियाघर और रेस्क्यू सेंटर बनाने का रास्ता साफ हो गया है। केंद्र सरकार की ओर से इस सिलसिले में अंतरिम स्वीकृति वन विभाग को मिल गई है।
चिड़ियाघर बनने से ईको पर्यटन को बढ़ावा मिलने की संभावना है। यहां दूसरे प्रदेश और देश के विभिन्न प्रजातियों के वन्यप्राणी, जलीय जीव और पक्षी रखे जाएंगे। राज्य सरकार ने चिड़ियाघर खोलने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को स्वीकृति के लिए भेजा था। लगभग 150 एकड़ क्षेत्र में चिड़ियाघर और 300 एकड़ में रेस्क्यू सेंटर तैयार किया जाएगा।
जिप लाइन प्रोजेक्ट प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद
रायसेन के वन मंडलाधिकारी राजेश खरे ने आज बताया कि 23 करोड़ रूपयों की लागत से 450 एकड़ क्षेत्र में चिड़ियाघर और रेस्क्यू सेंटर बनेगा। इसके अलावा यहां पर जिप लाइन प्रोजेक्ट भी प्रस्तावित है। इस जिप लाइन से लोग एडवेंचर के साथ ही प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद भी उठा सकेंगे।  उन्होंने कहा कि खरबई गांव में चिड़िया टोल की पहाड़ी के आसपास घने वन होने के साथ ही विभिन्न वन्य प्राणियों का रैन बसेरा भी है। खरबई पहाड़ी के पास जिप लाइन प्रोजेक्ट का काम तो लगभग पूरा हो गया है। इसकी टेस्टिंग का काम भी चल रहा है। 200 मीटर लंबी इस जिप लाइन पर लोग हवा में लटकते हुए एक छोर से दूर छोर तक पहुंचेंगे। इस दौरान वे तालाब, झरने, वन और प्राकृतिक खूबसूरती का ऊपर से आनंद उठा सकेंगे।
एडवेंचर को बढ़ावा मिलेगा
उन्होंने बताया कि इतना ही लोग दूसरे छोर से वापस पहले छोर भी एडवेंचर करते हुए आ सकेंगे। जिप लाइन प्रोजेक्ट को जमीन से 15 फीट ऊंचाई पर स्थापित किया गया है । उन्होंंने कहा कि रायसेन जिला पर्यटन स्थलों और विश्व धरोहरों के लिए प्रसिद्ध है। चिड़ियाघर भी बन जाने पर पर्यटक और अधिक आकर्षक हो सकेंगे।